Sunday, 23 July 2017

संवाद का जादू


एक दुबला पतला युवा वकील अंतर्राष्ट्रीय नेता अब्राहम लिंकन बन गया एक हकलाता किशोर इतिहास का सबसे प्रेरक राजनेता विंस्टन चर्चिल बन गया एक कोमल महिला दुनिया भर में उत्कृष्ट मानवतावादी मदर टेरेसा के रूप में लोकप्रिय हुई । कैसे ? क्यो ?

इन लोगो का जीवन अत्यंत प्रभावशाली कैसे बना ? ऐसी क्या बात है जिसने इन साधारण लोगों को विशिष्ट बना दिया,  दुनिया भरमें पहचान दिलाई । निश्चित रूपसे बहुत सारी चीजों का योगदान है, जिनमें जोश संकल्प, विश्वास आस्था, परिस्थितियाँ और सकारात्मक दृष्टिकोण शामिल है। लेकिन ’’कुछ और भी है’’ जो दुर्लभ तो है लेकिन दुनिया के हर व्यक्ति के लिए सुलभ है- यह विशेष ’संवाद का जादू’ है।
यह सिर्फ किसी से बात करना भर नहीं है यह एक ऐसी गतिविधि है जो हम दूसरों के साथ करते है, इसमें हमारे शब्द, काम और इरादे भी शामिल है, यह एक दोतरफा रास्ता है।
यदि हम अपने संवाद के स्तर को ऊपर उठा पाएं तो हमारा जीवन नाटकीय रूप से बेहतर हो जाएगा। सर्वेक्षण बताते हैं कि दफ्तरों में 80 प्रतिशत समस्या सही ढंग से संवाद न होने के कारण है।


संवाद का जादू पाने के रास्ते
 
अनकही भाषा -
चार तरीके मात्र चार तरीके है जिनसे हम दुनिया के साथ संपर्क बनाए रखते है, इनके आधार पर बनाए संपर्क रखते हैं, इनके आधार पर ही हमारा मुल्यांकन और वर्गीकरण होता है। हम क्या करते है ? हम कैसे दिखते, हम क्या कहते है और हम उसे कैसे कहते है।..........डेल कार्नेगी।

हमारे हाव -भाव एवं शरीर संचालन से ही हमारा 80 प्रतिशत संवाद होता है बिजनेस डील्स एवं साक्षात्कार एवं चयन प्रक्रिया में आने वाले लोगों का विश्लेषण उनकी बाॅडी लैंग्वेज के आधार पर करते है।
हमराी बाॅडी लैंग्वेज कैसे प्रभावशाली बने ?

 
मुस्कुराहट -
यह एक जर्बदस्त प्रभाव्कारी माध्यम है और संक्रामक है, अपनी मुस्कुराहट से आप सकारात्मक संदेश देते है, इसलिए मुस्कुराते हूए मिलिए। अगर आप अपनी मुस्कुराहट का उपयोग नहीं करते है तो आप एक ऐसे व्यक्ति की तरह है जिसके पास बैंक में लाखों रूपये है पर चैक बुक नहीं है।

आँखों की भाषा -
आँखे सब बयान करती हैं आँखे आत्मा की खिडकी होती है, हमें भगवान ने ऐसा बनाया है कि हम किसी व्यक्ति की आँखों में झांककर उसके दिल की बात समझ सकते हैं, हमारी आँखे सशक्त संवाद करने मे सक्षम होती है। हमें भगवान ने ऐसा बनाया है कि हम किसी व्यक्ति की आँखों में झाँककर उसके दिल की बात समझ सकते हैं, हमारी आँखे सशक्त संवाद करने में सक्षम होती है।

आँखे मिलाकर बात करें:-
आँखें इधर-उधर घुमाना या मिलाने से बचाना अविश्वास पैदा करता है। अगर आप सचमुच लोगों से जुड़ना चाहते हैं तो इनसे आँखे मिलाने की सचेतन कोशिश करें। 


चेहरे पर सफलता की पौशाक पहनेः-
हमारे चेहरे में हजारों मांसपेशिया होती है, और हमारा चेहरा हजारों भाव भावनाएँ और दृष्टिकोण संप्रेषित कर सकता है। अपने चेहरे पर सकारात्मक भाव वं मुस्कान बनाए रखने का संकल्प ले।

दूसरों के सामने ठीक से बैठेः-
अच्छी शारीरिक मुद्रा से स्वाभिमान झलकता है, हमारा बैठना-हाथ-पैर हिलाना हमारे मानसिक विचार एवं आत्म विश्वास को दर्शाते हैं। सीधा बैठना, पैरों को बहुत ज्यादा न हिलाना आदि सकारात्मक संदेश है जो हम अपने शरीर के माध्यम से अभिव्यक्त करते है।

यह संवाद के जादू का एक छोटा सा पक्ष है हम इस कला में माहिर बनकर कैसे सफलता प्राप्त करे, इस पर हम आगे और विस्तार से चर्चा करेगें इंतजार कीजिए अगले आलेख का .............तब तक मुस्कुराते रहिए।