Monday, 18 January 2021

KhabarExpress.com : Local To Global News
  2055 view   Add Comment

राष्ट्रसंत तरूणसागर की पुस्तक कड़वे प्रवचन भाग 8 का लोकार्पण

दिगम्बर प्रबन्ध समिति, बीकानेर

बीकानेर 30 अगस्त। शब्द मंत्र होते है और शब्दों को संकल्प रूप से स्वीकृत कर लिया जाय तो सफलता प्राप्त हो जाती है। यह बात महापौर नारायण चैपड़ा ने आज दिगम्बर नसियां जी में राष्ट्रसंत तरूणसागर जी की पुस्तक कड़वे प्रवचन भाग 8 के लोकार्पण के अवसर पर कही। उल्लेखनीय है कि तरूण सागर जी द्वारा लिखित इस पुस्तक का देश विदेश में 120 स्थानों पर एक साथ लोकार्पण किया गया। नारायण चैपड़ा जैन समुदाय के सभी घटकों के लोगों की उपस्थिती को देख भावुक हो उठे और उन्होंने अपने राजनैतिक जीवन में आने की घटना व किए जाने वाले विकास कार्यों का भी उल्लेख कर दिया। समारोह की अध्यक्षता करते हुए प्रो. डी.सी.जैन ने कहा कि कड़वी दवा का असर स्वस्थ तन होता है उसी तरह कड़वी बात अपने जीवन को बदल देती है जिसमें भी वह बात किसी संत-महात्मा द्वारा कही गयी हों। उन्होंने संथारा-संलेखना विषय पर भी प्रकाश डाला तथा कहा कि यह आत्म साधना का मार्ग है। दिगम्बर प्रबन्ध समिति के अध्यक्ष विनोद जैन एवं पूर्व उपाध्यक्ष पी.सी.जैन ने स्वागत भाषण करते हुए अपने उद्गार रखे। जैन महासभा के पूर्व अध्यक्ष विजय कोचर ने इस कार्यक्रम के प्रायोजक रहे स्व.चांदमल-सोहनी देवी कोचर परिवार को बधाई दी कि उन्होंने एक नेक कार्य किया है।
लोकार्पण समारोह कि शुरूआत दिगम्बर महिला समिति की महिलाओं ने मंगलाचरण से की। समारोह में जैन महासभा के महामंत्री जैन लूणकरण छाजेड़, मेघराज बोथरा, निर्मल धारीवाल, धनेश जैन, जीनेन्द्र जैन, विमल कोचर, अनन्तवीर जैन, द्वारकादास पच्चीसीया, सहित अनेक श्रवाक-श्राविकाएं उपस्थित थी। आभार ज्ञापन माणकचन्द कोचर (सी.ए.) ने किया मंच का कुशल संचारलन किशोर सर ने किया।
 

Tag

Share this news

Post your comment