Tuesday, 01 December 2020

KhabarExpress.com : Local To Global News
  1959 view   Add Comment

साक्षात्कार में संप्रेषण कुशलता विषय पर हुआ सेमीनार

नाबार्ड के जिला विकास प्रबन्धक भूपेन्द्र कुमावत रहे मुख्य वक्ता

 अजित फाउण्डेशन द्वारा संचालित रोजगार एवं स्वरोजगार मार्गदर्शन कार्यक्रम के तहत आज ‘‘साक्षात्कार में संप्रेषण कुशलता’’ विषय पर सेमीनार आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता के रूप में नाबार्ड के जिला विकास प्रबन्धक, श्री भूपेन्द्र कुमावत ने साक्षात्कार में संप्रेषण कुशलता के विभिन्न आयामों के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि साक्षात्कार में आत्मविश्वास, स्पष्ट बोलना, शुद्ध उच्चारण आदि होनी चाहिए। श्री कुमावत ने कहा कि पढ़ने के साथ-साथ हमें अन्य विषयों में की रूचि भी विकसित करनी चाहिए। साक्षात्कार में सफलता के लिए आत्मानुशासन भी बहुत महत्वपूर्ण होता है। 
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राजकीय बागडी काॅलेज के व्याख्याता डाॅ. नरसिंह बिन्नाणी ने कहा कि साक्षात्कार के संबंध में सम्प्रेषण कुशलता की दृष्टि से चार ‘‘पी’’ काफी महत्वपूर्ण है। इसके अन्तर्गत सकारात्मक दृष्टिकोण, धैर्य, रचनात्मकता का होना आवश्यक है। डाॅ. अजय जोशी ने श्रृंखला का संयोजन करते हुए कहा कि साक्षात्कार कि दृष्टि से तनाव प्रबन्धन महत्वपूर्ण है। साक्षात्कार देने वाले में ऐसी क्षमता होनी चाहिए जिससे वह तनावपूर्ण स्थितियों में अपने आप में संयमित रखते हुए उनका सामान कर सके। 
संस्था कार्यक्रम समन्वयक संजय श्रीमाली ने बताया कि साक्षात्कार में संप्रेषण कुशलता के साथ-साथ शैक्षणिक रिकाॅर्ड भी महत्वपूर्ण है। इसलिए प्रार्थी को नियमित अध्ययन करता रहना चाहिए।  डाॅ. पंकज जोशी ने बताया कि हमें आत्मविश्वास के लिए निरन्तर अध्ययनशील रहना चाहिए। सेमीनार में विनय थानवी, स्वरूप सिंह, पूजा पारीक, गजेन्द्र सिंह, नेहा शर्मा सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने भाग लिया। 
 

Tag

Share this news

Post your comment