Tuesday, 01 December 2020

KhabarExpress.com : Local To Global News
  2610 view   Add Comment

तकनीकी शिक्षा के विस्तार व गुणवता के लिए पूरे प्रयास करें - तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री

प्राविधिक शिक्षा के क्षेत्र में पिछले तीन सालों से हमने प्रगति की है तथा यही कारण है कि अब निजी क्षेत्रों से चुनौतियं है। अब राज्य में १४ निजी पोलोटेक्निक कॅालेज हो गए हैं तथा इतने ही प्रस्ताव भी हैं।

जयपुर, दो मई। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने कहा है कि तकनीकी शिक्षा के विस्तार व गुणवता के लिए पूरे मनोयोग से कार्य करने की जरूरत है।

श्री देवनानी बुधवार को जोधपुर में राजकीय पोलोटेक्निक महाविद्यालय परिसर में राज्य के सभी पोलोटेक्निक महाविद्यालयों के प्राचार्यो की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्राविधिक शिक्षा के क्षेत्र में पिछले तीन सालों से हमने प्रगति की है तथा यही कारण है कि अब निजी क्षेत्रों से चुनौतियं है। अब राज्य में १४ निजी पोलोटेक्निक कॅालेज हो गए हैं तथा इतने ही प्रस्ताव भी हैं। इसलिए अब ज्यादा मेहनत, लगन के साथ कार्य करना है और गुणवता बढाना पहला उद्देश्य होना चाहिए।

उन्होंने पोलोटेक्निक प्राचार्यो से परीक्षा परिणामों के बेहतर करने पर बल देते हुए द्वितीय एवं तृतीय वर्षो के परिणाम शत प्रतिशत रहने की आवश्यकता जताई। उन्होंने बैठक में प्रत्येक पोलोटेक्निक प्राचार्य से कॅालेजवार समीक्षा करते हुए स्टाफ की कमी दूर करने की प्रकि्रया के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा २६० पदों की रिक्तियंा अगस्त माह-२००७ तक पूरी हो जाएगी। श्री देवनानी ने कहा कि प्राचार्य केवल अपने पद की डयुटी पूरी करने का कार्य नहीं करें बल्कि इंस्टीट्युशन के विकास में पूरी सहभागिता निभाएं।

तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री ने कहाकि प्राविधिक शिक्षा में राजस्व बढोतरी के लिए भी प्राचार्य पूरे प्रयास करें। इसके लिए अपने-अपने इंस्टीट्युशन की स्थितियों का अंाकलन कर एक महीने में लक्ष्य बनाकर प्रस्तुत किए जाएं। उन्होंने कहाकि सभी स्टाफ का पूरा सहयोग व सहभागिता लेकर कार्य करें। इस बात की प्रवृति विकसित करें कि अपने यहंा की कमियंा स्वयं दूर कर सकें । स्थानीय संासद व विधायकों से भी संफ करके विकास के लिए सहायता लेनी चाहिए। कॉलेज समय के अलावा भी अतिरिक्त कार्य करें और अवकाश के दिन लंबित कार्यो को निपटाने की प्रवृति होनी चाहिए।

श्री देवनानी ने महिला पोलोटेक्निक के निरन्तर विस्तार की सराहना करते हुए इसके विकास के लिए संबंधित प्राचार्यो का आह्वान किया । इसके साथ ही इंडस्ट्री मैनेजमेन्ट कमेटी में उद्योगपति को सदस्य बनाया जाने और उनसे निरन्तर समन्वय रखने पर भी बल दिया । इससे दिक्कतें दूर होंगी और प्लेसमेन्ट में मदद मिलेगी। उन्होंने प्राचार्यो द्वारा प्रस्तुत उपलब्धियों के साथ समस्याओं को भी गौर से सुना व समस्याएं शीघ्र निस्तारित करने का विश्वास दिलाया।

प्राविधिक शिक्षा निदेशक श्री आई. आर. त्रिवेदी ने प्रारंभ में स्लाइड-प्रोजेक्टर के माध्यम से पूरे राज्य के प्राविधिक शिक्षा की वर्तमान योजनाओं व प्रगति की विस्तृत कार्यप्रणाली की जानकारी प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप योजना के तहत निदेशालय ने राज्य में एक दर्जन संस्थानों को नए शैक्षणिक सत्र से प्रवेश की अनुमति दी है। इनमें से दस को निःशुल्क भूखण्ड आवंटित कर दिए गए है। बैठक में राज्य के सभी राजकीय पोलोटेक्निक के प्राचार्यो ने भाग लिया।

Share this news

Post your comment