Friday, 04 December 2020

KhabarExpress.com : Local To Global News
  41646 view   Add Comment

गंजों के सर अब उगेंगे बाल

बांसवाडा में गंजापन निवारण का एक माही पंचकर्म शिविर 3 नवम्बर से,

पंजीयन मंगलवार से, बांसवाडा में ऐसा शिविर पहली बार

बांसवाडा,  गंजे व्यक्तियों के सर पर बाल उगाने के लिए बांसवाडा शहर के हाउसिंग बोर्ड स्थित राजकीय जिला आयुर्वेदिक चिकित्सालय में नवम्बर माह में गंजापन निवारण शिविर आयोजित किया जा रहा है। तीन नवम्बर से शुरू होने वाला यह शिविर पूरे नवम्बर माह चलेगा। इसमें आयुर्वेद की प्राचीन पंचकर्म चिकित्सा पद्धति द्वारा प्राकृतिक उपचारों और जडी-बूटियों से गंजों के सर पर बाल उगाए जाएंगे। इस प्रकार का अनूठा प्रयोग बांसवाडा में पहली बार हो रहा है।
प्रभारी चिकित्सा अधिकारी एवं योग विशेषज्ञ डॉ. नटवरलाल त्रिवेदी ने बताया कि 3 नवम्बर से 30 नवम्बर तक चिकित्सालय में रोजाना प्रातः 7 से मध्याह्न  12 बजे तक गंजापन निवारण के लिए पंचकर्म शिविर रहेगा।  इसमें पंचकर्म विशेषज्ञ डॉ. लता सिंह के साथ ही चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ. हेमकन्या भट्ट एवं डॉ. हेमन्त पण्ड्या तथा पंचकर्म विधाओं म निष्णात स्टाफ की सेवाएं प्राप्त होंगी। शिविर अवधि में सायंकालीन योग चिकित्सा शिविर रहेगा।
पंचकर्म विशेषज्ञ डॉ. लता सिंह  ने बताया कि इस शिविर में 20 से 45 वर्ष आयु वर्ग के ऐसे व्यक्तियों को पंचकर्म चिकित्सा दी जाएगी जो कि 20 से 80 फीसदी गंजेपन से त्रस्त हैं। शिविर में पंचकर्म की स्नेहन, स्वेदन लेपन आदि विधियों का प्रयोग कर गंजे सर पर बाल उगाए जाएंगे।
डॉ. सिंह के अनुसार इस प्रकार का प्रयोग चिकित्सालय के पंचकर्म प्रभाग द्वारा पिछले दिनों में 18 मरीजों पर परीक्षण के तौर पर किया जा चुका है और इन सभी गंजे मरीजों के सर पर बाल उगाने में सफलता हासिल की गई है। इससे उत्साहित होकर ही यह शिविर लगाया जा रहा है।
शिविर में गंजापन से परेशान व्यक्तियों के सर पर पंचकर्म की विभिन्न विधाओं के प्रयोग के साथ ही औषधीय विशिष्ट जडी-बूटियों का लेप भी लगाया जाएगा। शिविर में पंजीकृत होने वाले रोगियों  में से सात-सात रोगियों के समूह बनाकर इनकी चिकित्सा की जाएगी। मानसिक एवं शारीरिक व्याधियों की वजह से उत्पन्न गंजेपन की समस्या की स्थिति में इन बीमारियों की भी साथ ही साथ चिकित्सा की जाएगी। इनके आहार संतुलन व आहार परिवर्तन और प्रकृति (वात, कफ एवं पित्त) निर्धारण पर भी पर्याप्त ध्यान केन्द्रीत किया जाएगा।
पंजीयन मंगलवार से शुरू
इस शिविर में अधिकतम 50 रोगियों का पंजीयन किया जाएगा। इसके लिए पंजीयन 21 से  24 अक्टूबर तक हाउसिंग बोर्ड स्थित राजकीय जिला चिकित्सालय में कराया जा सकता है। सभी पंजीकृत रोगियों को शिविर के पहले दिन अपने पुराने ईलाज, पुरानी बीमारी आदि के रेकार्ड के साथ ही सर का गंजापन दर्शाने के लिए चारों कोन से लिया गया फोटोग्राफ भी लाना होगा।

Tag

Share this news

Post your comment