Friday, 04 December 2020

KhabarExpress.com : Local To Global News
  1602 view   Add Comment

जपओं जिन अर्जुनदेव गुरू, फिर संकट जून गर्म नही आइयों

पांचवे गुरू अर्जुनदेव जी का शहीदी समागम व संगराद का पर्व मनाया गया

Arjun guru Sahid parv हनुमानगढ़ ,14 मई। आज गुरूद्वारा शहीद बाबा दीप ङ्क्षसह जी जंक्शन में सिखो के पांचवे गुरू अर्जुनदेव जी का शहीदी समागम व संगराद का पर्व मनाया गया जिसमें सुबह से ही गुरूद्वारा साहब में संगतो का आना शुरू हो गया था। सुबह सुखमणी साहब के पाठ किये गये व उसके उपरान्त दीवान सजाये गये जिसमें ज्वालाङ्क्षसह जी कथा वाचक व रागी जत्था भाई भूपेन्द्रर ङ्क्षसह जी, कार सेवा वालो ने संगतो को गुरबानी कीर्तन द्वारा निहाल किया गया। इस मौके पर मीठे जल की छबीले लगाई गई। गुरू के लंगर अटूट बरताये गये जिसमें सैकड़ो की संख्या में संगतो ने धर्म लाभ प्राप्त किया। गुरूद्वारा साहब के मुख्य सेवादार बलजीत ङ्क्षसह बिल्ला ने बताया कि आज के दिन गुरू अर्जुन देव जी को तप्ती तवी पर बैठाया गया था व उनके सिर में रेता डाला गया था और फिर भी गुरू अर्जुनदेव जी ने शांति से कहा था कि तेरा किया मीठा लागे हर नाम पदार्थ नानक माने। उनकी याद में यह शहीदी दिवस मनाया जाता है व इस दिन जगह-जगह पर मीठे जल की छबीले व गुरू का अटूट लंगर बरताया जाता है। इस अवसर पर बख्तावर ङ्क्षसह एईएन, मंहगा ङ्क्षसह प्रीत, बलदेवसिंह तेरे भरोसे, गुरमीत ङ्क्षसह, दर्शनङ्क्षसह धारीवाल, मलकीत ङ्क्षसह तलवंडी, सुखवीर ङ्क्षसह, सोहनसिंह व बीबीयों का जत्थे ने गुरू प्यारेयों ने अपनी सेवाएं दी।
 

Tag

Share this news

Post your comment