Monday, 18 January 2021

KhabarExpress.com : Local To Global News
  5571 view   Add Comment

वरिष्ठ संगीतज्ञ शर्मा का हुआ भावभीना अभिनंदन

डा0 मुरारी शर्मा ने बीकानेर में संगीत की चार पीढीयों को संस्कारित किया

बीकानेर 4 अप्रेल । सांझी विरासत द्वारा प्रतिष्ठत संगीतज्ञ डा0 मुरारी शर्मा के 71 वें जन्मदिवस पर शनिवार को औद्योगिक क्षेत्र रानीबाजार स्थित उनकी कर्मस्थली श्री संगीत भारती परिसर में भावभीना अभिनंदन किया गया । कार्यक्रम के अतिथियों द्वारा डा0 शर्मा को माल्यार्पण, शाॅल ओढाकर, प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया ।

Music/Legend-Music-Maestro-Sharma-Honoured
कार्यकम में मुख्य अतिथि बीकानेर पश्चिम के विधायक डा0 गोपाल जोशी ने डा0 मुरारी शर्मा की संगीत साधना को रेखांकित करते हुए कहा कि डा0 शर्मा संगीत जगत के हीरा है जिन्होने बीकानेर की चार पीढीयों को संस्कारित किया है । उन्होने कहा कि डा0 शर्मा हमेशा संगीत प्रतिभाओं को आगे बढाने में सक्रिय रहे है । उन्होने कहा कि बहुमुखी प्रतिभा के धनी होते हुए डा0 शर्मा विनम्र, सहज और सरल है, ऐसा व्यक्तित्व कम ही मिलता है । कार्यक्रम के अध्यक्ष वरिष्ठ कवि भवानी शंकर व्यास विनोद ने कहा कि डा0 मुरारी शर्मा संगीत के गुरूकुल है जो गत 50 वर्शो से संगीत साधना के साथ संगीत नृत्य कार्यक्रमों के आयोजन एवं प्रस्तुति, संगीत शिक्शण, पत्र पत्रिकाओं के संपादन प्रकाशन में सक्रिय है । 


Dr Murari Sharma Bikaner Legend Music Maestroविशिष्ठ अतिथि पार्षद प्रेमरतन जोशी ने कहा कि डा0 मुरारी शर्मा के व्यक्तित्व-कृतित्व के बारे में कहना सूरज को दिया दिखाने के समान है । कार्यक्रम में सांझी विरासत की ओर से स्वागत करते हुए व्यंग्यकार बुलाकी श्शर्मा ने कहा कि डा0 मुरारी शर्मा ने संगीत के क्शेत्र में बीकानेर ही नहीं वरन राजस्थान में अपनी विशिश्ठ पहचान बनाई है जिन्होने अपने शिश्यों को पारंगत कर बीकानेर की परम्परा को अक्शुण्ण बनाये रखा है । 


सांझी विरासत के संयोजक कवि कथाकार राजेन्द्र जोशी ने कहा कि किसी कलाकार के घर जाकर उसका सम्मान करना ही सच्चा सम्मान है । जोशी ने कहा कि आज डा0 मुरारी शर्मा के जन्मदिवस पर उनकी कर्मस्थली श्री संगीत भारती में उनका सम्मान अभिनंदन कर पूरा बीकानेर गौरान्वित है । 


कार्यक्रम में लेखक अशफाक कादरी ने कहा कि डा0 मुरारी शर्मा संगीत जगत के संत है जो पांच दशकों से मौन साधना कर रहे है । कवि राजाराम स्वर्णकार ने कहा कि डा0 शर्मा संगीत के शिखर पर पहुंचने के बावजूद सहज सरल और सर्वसुलभ है । कार्यक्रम में संगीतज्ञ गोविन्द नारायण राजपुरोहित ने डा0 शर्मा के सम्मान में अपनी काव्य रचना सुमधुर स्वरों में प्रस्तुत की । 


कार्यक्रम में युवा शाईर इरशाद अजीज ने कहा कि डा0 शर्मा की संगीत साधना प्रेरणादायक है । कवि इसरार हसन कादरी ने कहा कि डा0 मुरारी शर्मा विभिन्न विधाओं पर अधिकार रखते है । कार्यक्रम में श्री संगीत भारत के वरिष्ठ उपाध्यक्श मोहनलाल मारू, का0 प्रसन्न कुमार, बृजरतन जोशी, एडवोकेट चतुर्भुज शर्मा, नृत्य गुरू डा0 कल्पना शर्मा, मुक्ता तैलंग ने भी अपने विचार रखे । सम्मान से अभिभूत संगीतज्ञ डा0 मुरारी शर्मा ने कहा कि हमारे परिवार में जन्मदिन मनाने की परम्परा नहीं है, यह जन्मदिन कार्यक्रम मित्रों को स्नेह और प्रेम है । कार्यक्रम में चन्द्रशेखर जोशी ने धन्यवाद ज्ञापित किया । 
 

Tag

Share this news

Post your comment