Monday, 18 January 2021

KhabarExpress.com : Local To Global News
  3996 view   Add Comment

एमबीए विभाग में भारतीय प्रबंध प्रणाली पर कार्यशाला

बीकानेर,राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय के एम् बी ए विभाग में आयोजित भारतीय प्रबंध प्रणाली पर आयोजित कार्यशाला में तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. हनुमान प्रसाद व्यास ने कहा हैं की किसी भी काम को करने मैं कठिनाइयाँ बहुत आती है बस हमे निस्वार्थ भाव से काम करते हुए समस्याओं का समाधान करना चाहिए. स्वामी विवेकानंद का संस्मरण सुनाते हुए उन्होंने कहा की शिक्षा का मतलब है प्रायोगिक ज्ञान, सोचने की क्षमता और अवलोकन क्षमता को बढ़ाना. डॉ व्यास ने कहा है की भारत की संस्कृति सभी देशों से अच्छी हैं बस जरुरत है तो हमे इसे बढ़ावा देने की और इसका अनुसरण करने की. 
इस से पहले कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए एमबीए विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ गौरव बिस्सा ने एमबीए विभाग की गतिविधियों से कुलपति को अवगत करवाया तथा भविष्य की योजनाओ की रूपरेखा को प्रस्तुत किया. डॉ. बिस्सा ने भारतीय प्रबंध की अवधारणा को स्पष्ट करते हुए कहा कि भारतीय मैनेजमेंट हमें सद्भाव, प्रेम, दया की शिक्षा देता है. डॉ बिस्सा ने कहा की मैनेजमेंट एक संस्कृति आधारित विज्ञान है और प्रत्येक देश का मैनेजमेंट वहां की संस्कृति के मुताबिक़ होना चाहिए. उन्होंने गांधीजी के प्रबंध विचार, ट्रस्टीशिप के सिद्धांत और सत्य को ईश्वर समझने की व्याख्या की. कार्यक्रम प्रभारी व्याख्याता अवधेश व्यास ने भारतीय मनोविज्ञान को स्पष्ट किया और बताया की भारतीयों की संस्कृति समूचे विश्व में महान है.वित्त व्याख्याता नवीन शर्मा और मानव संसाधन व्याख्याता डॉ. विजय मोहन व्यास ने विभाग के न्यूज़ लैटर की जानकारी दी तथा विभाग द्वारा संचालित शोध और मूल्यांकन की प्रगति रिपोर्ट पर प्रस्तुतीकरण दिया. मार्केटिंग व्याख्याता राखी पारीक ने धन्यवाद् ज्ञापित किया. कार्यक्रम में डॉ. सुनील गोपाल पुरोहित, डॉ. विजय शर्मा, वीरेंद्र चौधरी, डॉ. अमित सांघी आदि उपस्थित थे.

 
 

Share this news

Post your comment