Tuesday, 01 December 2020

KhabarExpress.com : Local To Global News
  7212 view   Add Comment

डेजर्ट इवेंट से रेतीले धोरों को मिलेगी नईं पहचान- बेनीवाल

बलदेव राम मिर्धा मेमोरियल प्रथम इंडो नेपाल ओपन डेजर्ट इवेंट साउथ एशिया कप के उद्घाटन

नागौर,   सरकारी मुख्य सचेतक वीरेन्द्र बेनीवाल ने कहा कि पहली बार आयोजित होने वाले ’डेजर्ट इवेंट‘ से थार के रेतीले धोरों को नई पहचान मिलेगी। इन खेलों के माध्यम से विश्वपटल पर राजस्थान अपनी विशेष उपस्थिति दर्ज करवाने में सफल हो पाएगा।


Virendra Beniwal - Chief Whip Rajasthan Govt बेनीवाल रविवार को नागौर के राजकीय स्टेडियम में डेजर्ट इवेंट फैडरेशन ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित किए जा रहे किसान केसरी  बलदेव राम मिर्धा मेमोरियल प्रथम इंडो नेपाल ओपन डेजर्ट इवेंट साउथ एशिया कप के उद्घाटन और सम्मान समारोह के अवसर पर मुख्यअतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि डेजर्ट इवेंट फैडरेशन की स्थापना कर इन खेलों के आयोजन के संबंध में सोचना सराहनीय है। इनके माध्यम से राजस्थान को नई पहचान मिलेगी। उन्होंने कहा कि इससे युवाओं की ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग हो सकेगा। साथ ही ये खिलाडी देश और दुनिया में राजस्थान का नाम रोशन करेंगे। 

उन्होंने कहा कि नागौर का इतिहास स्वर्णिम रहा है। किसान केसरी स्वर्गीय  बलदेव राम मिर्धा का तत्कालीन परिस्थितयों के आमूलचूल परिवर्तन में दिया गया योगदान अनुकरणीय है। उन्होंने कहा कि इस पावन धरा ने सदैव राजस्थान को गौरवांवित किया है। पंचायती राज संस्थाओं की स्थापना के लिए आयोजित पहले पंचायती राज सम्मेलन से लेकर इसकी स्वर्ण जयंती पर हुए समारोह का यह जिला साक्षी है। उन्होंने कहा कि पंचायती राज स्वर्ण जयंती समारोह के दौरान माननीय मुख्यमंत्री ने जिले की आधारभूत व्यवस्थाओं को और सुदृढ करने के लिए कईं सौगातें दी थीं। उन्होंने सम्मानित हुईं सभी प्रतिभाओं को बधाई दी और समाजसेवा सहित अन्य क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रदर्शन के लिए अनवरत प्रयासरत रहने की अपील की। 

जिला कलेक्टर  एस एस बिस्सा ने कहा कि नवाचार किताबों में नहीं मिलता। यह मनुष्य की सकारात्मक सोच और अथक मेहनत का परिणाम होता है। उन्होंने कहा कि खेल की भावना ही व्यक्ति को सही मायने में मनुष्य बनाती है। उन्होंने कहा कि खेल में हुई हार में ही जीत की सीख होती है। खिलाडी हारने के बाद हार का विश्लेषण करता है और उन कमियों को दूर कर जीत की राह सुनिश्चित करता है।
 
बिस्सा ने कहा कि राजस्थान के रेतीले धोरे देशी और विदेशी पर्यटकों को अनवरत आकर्षित कर रहे हैं और प्रतिवर्ष हजारों पर्यटक इन्हें देखने आते हैं। ऐसे में ये ’डेजर्ट इवेंट‘ दुनिया में धोरों को नई पहचान देने में सफल सिद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि परम्पराओं का संरक्षण करने वालों को लगातार सम्मानित किया जाता रहे तो परम्पराएं लुप्त होने से बची रहेंगी। 

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि तथा राजस्थान राइफल एसोशिएसन के अध्यक्ष  सुशील चौधरी ने धोरों में खेलों का आयोजन करवाना बेहद मुश्किल होता है। इन खेलों की कल्पना अनुकरणीय है। उन्होंने निशानेबाजी में डॉ करणीसिंह के योगदान को अमूल्य बताया। डेजर्ट इवेंट फेडरेशन ऑफ मॉरिशस की संयोजक दिग्गेश्वरी गुप्पी ने कहा कि निकट भविष्य मे मॉरिशस में भी इन खेलों का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से दोनों देशों के संबंधों में और अधिक प्रगाढता आएगी। फैडरेशन के संस्थापक सचिव  मदन लाल मिर्धा ने बताया कि पहली बार आयोजित होने वाले ये मुकाबले सींगड गांव के बैकाल धोरे पर आयेाजित किए जा रहे हैं। प्रतियोगिता में लगभग १५० खिलाडी भाग लेंगे। खिलाडयों को इससे संबंधित प्रशिक्षण दिया जा चुका है। फेडरेशन अध्यक्ष  वीरेन्द्र चौधरी ने इस दौरान आयोजित होने वाले विभिन्न इवेंट्स की जानकारी दी।
बेनीवाल ने इससे पहले इवेंट के विधिवत शुभारम्भ की घोषणा की। इवेंट की ट्राॅफी फैडरेशन के पदाधिकारियों को सौंपी। सरकारी मुख्य सचेतक और जिला कलेक्टर ने इस अवसर पर कलादीर्धा का लोकार्पण किया तथा इसका अवलोकन भी किया। विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाली चालीस प्रतिभाओं का सम्मान किया गया। इस अवसर पर मेजर एस एस ग्रेवाल,  लिखमा राम भांभू सहित फैडरेशन के अन्य पदाधिकारी, सम्मानित होने वाली प्रतिभाएं, शहर के गणमान्य नागरिक तथा स्कूली बच्चे उपस्थित थे। 

Tag

Share this news

Post your comment