Tuesday, 28 September 2021

KhabarExpress.com : Local To Global News

अन्नत चतुर्दशी


भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी भगवान अनन्त का व्रत रखकर मनायी जाती है इस व्रत के नाम से लक्षित होता है, की यह दिन उस अन्त न होने वाली सृष्टि के कर्ता विष्णु की भक्ति का दिन है, ”अनन्त सर्व नागानामधिपः सर्वकामदः, सदा भूयात् प्रसन्नोमे यक्तानाभयंकरः“।
मन्त्र से पूजा करनी चाहीए । यह विष्णु कृष्ण रूप है ,और शेषनाग काल रूप मे विद्यमान है अतः दोनो की सम्मिलित पूजा हो जाती है ।
विधान ः स्नान करके कलश की स्थापना की जाती है । कलश पर अष्ट दल कमल के समान के बर्तन में कुशा से निर्मित अनन्त भगवान की स्थापना की जाती है । उसके समीप १४ गांठ लगाकर हल्दी से रंगे कच्चे डोरे को रखे और गंन्ध, अक्षत, पुष्प, धूप, दीप, नैवेद्य से पूजन करें । तत्पश्चात् अनन्त भगवान का ध्यान कर शुद्ध अनन्त को अपनी दाई भुजा में बांधना चाहीए यह धागा अनन्त फल  देने वाला है । अनन्त की चौदह गाँठे चौदह लोको को प्रतीक है उनमे अनन्त भगवान विद्यमान है ।
कथाः एक बार महाराज युधिष्ठर ने राजसुय यज्ञ किया। यज्ञ मंडप का निर्माण सुन्दर तों था, ही अद्भूत भी था । उसमें स्थल में जल में और स्थल की भ्रांति होती थी । यज्ञ मंडप की शोभा निहराते निहराते दुर्योधन एक जगह को स्थल समझकर कुण्ड मे जा गिरा । द्रोपदी ने उसका उपहास उडाते हुए कहा कि अंधे की संतान भी अंधी है । यह बात उसके ह्वदय में बाण की तरह चुभ गई ,कुछ दिनो बाद इसका बदला लेने के लिये पाण्डवो को हस्निापुर बुलाकर द्यूत क्रीडा में छल से परास्त किया । परास्त होकर पंाडवो को बारह वर्ष का वनवास भोगडा पडा । वन में रहते हुए पांडवो को अनेक कष्टो को सहना पडा। एक दिन वन में युधिष्ठर से मिलने भगवान श्री कृष्ण आए युधिष्ठर ने उनसे सब वृतान्त कह सुनाया और उसे दुर करने का उपाय पुछा तब कृष्ण ने उन्हे भगवान अनन्त का व्रत करने को कहा इससे तुम्हारा खोया हुआ राज्य फिर प्राप्त हो जायेगा । इसके बाद श्रीकृष्ण ने युधिष्ठर को एक कथा सुनाई प्राचीन काल में सुमन्त नाम के ब्राह्यण के एक सुशीला नाम की कन्या थी ,बडी होने पर ब्राह्यण ने सुशीला का विवाह कौण्डिल्य ऋषि से कर दिया कौण्डिल्य ऋषि सुशीला को लेकर अपने आश्रम चल दिये । रास्ते में रात होने पर वे नदी तट पर सन्ध्या करने लगे सुशीला ने वहाँ पर बहुत सी स्त्रियो को किसी देवाता की पुजा करते देखा सुशीला के पूछने पर उन्होने विधिपूर्वक अनन्त व्रत की महता समझा दी ।सुशीला ने वही उस व्रत का अनुष्ठान करके चौदह गाँठो वाला डोरा हाथ में बाँध लिया । और अपने पति के पास आ गई । कौण्डिल्य ऋषि ने सुशीला से हाथ में बंधे धागे के बारे में पूछा तो उसने सारी बात समझा दी  । कौण्डिल्य सुशीला की बातो से अप्रसन्न हो गये। तथा उसके हाथ मे बँधे धागे को अग्नि मे डाल दिया, यह अनन्त भगवान का अपमान था कौण्डिल्य ऋषि की सुख सम्पति नष्ट हो गई । सुशीला ने इसका कारण डोरे की जलने की बात दोहराई पश्चाताप करते हुए ऋषि भगवान अनन्त की खोज मे वन मे चले गए। जब वे भटकते-भटकते निराश होकर गिर पडे और बेहोश गए तो भगवान अनन्त दर्शन देकर बोले-”हे कौण्डिल्य! मेरे अपमान के कारण ही तुम्हारी यह मुसीबतो का पहाड टुटा है “। तुम्हारे पश्चाताप के कारण म प्रसन्न हूँ। आश्रम जाकर चौदह वर्ष तक विधि विधानपूर्वक अनन्त व्रत करो तुम्हारे सारे कष्ट दूर हो जायेगे । कौण्डिल्य ने वैसा ही किया। उन्हे सारे कष्टो से मुक्ति मिल गई । श्रीकृष्ण की आज्ञा मानकर युधिष्ठर ने अनन्त भगवान का व्रत किया, जिसके प्रभाव से पांडवो का महाभारत युद्ध में विजय प्राप्त हुई ।