Monday, 20 September 2021

KhabarExpress.com : Local To Global News
  2511 view   Add Comment

मलेरिया के लिए मांगे 20 लाख

गांवों तक पहुचाने के लिए वाहन उपलब्ध नहीं

बीकानेर। बीकानेर में जहां मलेरिया का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है वहीं इस पर नियंत्रण के लिए संसाधनों की कमी खलने लगी है। स्वास्थ्य टीमों के पास जहां गांवों तक पहुचने के लिए वाहन नहीं है वहीं जांच एवं उपचार सामग्री की कमी भी खिल रही है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने कलेक्टर के माध्यम से सरकार को जरूरतों की सूची भेजी हैं। इस सूची में शामिल जरूरतें पूरी करने के लिए लगभग 20 लाख रूपए की आवशयकता होगी। 

मलेरिया के हालात यह है कि इस बार अब 1700 रोगी रिपोर्ट हो चुके हैं जिनमें 25 पीएफ पीडि़त हैं। पिछले साल एक सितंबर तक 301 रोगी रिपोर्ट हुए थे। ऐसे में इस बार मलेरिया का दायरा लगभग छह गुना बढ़ गया है। इसके विपरीत नियंत्रण के उपायों पर ध्यान दे तो स्वास्थ्य विभाग के पास मलेरिया नियंत्रण की एकमात्र प्रभावी दवाई प्रीमाव्कीन का भी टोटा है। दवाइयों की आपूर्ति में7.5 एमजी की यह गोली लंबे समय से नहीं मिल रही है ऐसे में स्थानीय दानदाताओं के सहयोग से यह दवाई उपलब्ध करवाई जा रही है। शहर में सर्वाधिक रोगी बढ़ने के साथ ही दूरस्थ गांवों से भी रोगी रिपोर्ट हो रहे हैं मगर स्वास्थ्य टीमों को गांवों तक पहुचाने के लिए वाहन उपलब्ध नहीं है। स्लाइड और निडल की भी कमी है। मच्छरों को मारने के लिए टेमीफोस, पाइराथ्रम, एमएलओ आदि रसायनों की कमी से भी दो-चार होना पड़ रहा है। 
ऐसे में इन सब जरूरतों का हवाला देते हुए सरकार से मलेरिया के दौर वाले दो महीनों में प्रभावी नियंत्रण की कार्रवाई के लिए लगभग 20 लाख रूपए मांगे गए है।
 

Tag

Share this news

Post your comment