Wednesday, 21 February 2024

KhabarExpress.com : Local To Global News
  1227 view   Add Comment

सात दिवसीय चिकित्सक प्रशिक्षण शुरू

हिंगोनिया के पशु चिकित्सकों को प्रशिक्षण के लिए वेटरनरी विवि भेजा

बीकानेर। वेटरनरी विश्वविद्यालय के वेटरनरी कॉलेज, बीकानेर स्थित सर्जरी और रेडियोलॉजी विभाग में पशुपालन विभाग के चिकित्सकों का सात दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम सोमवार से शुरू हो गया। राज्य के पशुपालन विभाग के आग्रह पर पशु रोग निदान में अल्ट्रासोनोग्राफी और रेडियोग्राफी के विशेष प्रशिक्षण में ग्रामीण बहुउद्देशीय पशु चिकित्सालय हिंगोनिया (जयपुर) के चिकित्सक भाग ले रहे है। पशुपालन विभाग, राजस्थान सरकार ने हाल ही में जयपुर स्थित हिंगोनिया ग्रामीण बहुउद्देशीय पशु चिकित्सालय में पशु रोग निदान की अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध करवायी है। हिंगोनिया में कार्यरत पशु चिकित्सकों को इस विधा की सम्पूर्ण प्रशिक्षण के लिए वेटरनरी विश्वविद्यालय भेजा गया है ताकि वेटरनरी विश्वविद्यालय में उपलब्ध संसाधनों पर ये चिकित्सक प्रशिक्षण प्राप्त कर सके। वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. बी.के. बेनीवाल ने सर्जरी विभाग के बैठक कक्ष में प्रशिक्षण का उद्घाटन करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा पशु चिकित्सा के क्षेत्र में किए जा रहे उपायों और तकनीक का लाभ राज्य सहित अन्य प्रान्तों के पशु चिकित्सकों को भी मिल रहा है। सर्जरी और रेडियोलॉजी के विभागाध्यक्ष और प्रशिक्षण संयोजक प्रो. टी.के. गहलोत ने कार्यक्रम में मौजूद विभिन्न विभागाध्यक्षों, फैकल्टी तथा स्नातकोत्तर छात्रों का सवागत करते हुए प्रशिक्षण के पाठ्यक्रम तथा प्रायोगिक कार्यों के बारे मे जानकारी दी। प्रो. गहलोत ने बताया कि विभाग द्वारा हाल ही में खरीदी गई डॉप्लर प्रणाली की अल्ट्रासोनोग्राफी मशीन पशुओं के रोग निदान में बहुत उपयोगी साबित हो रही है। प्रशिक्षण के प्रतिभागियों को भी इसका लाभ मिलेगा। प्रशिक्षण के पहले दिन "इमेज इन्टेन्सिव टी.वी." प्रणाली तथा अल्ट्रासोनोग्राफी से अवगत करवाया गया। यह प्रशिक्षण दिनांक 2 से 7 सितम्बर तक चलेगा।

Tag

Post your comment